Header ad

शिक्षा का महत्व - Importance of education

एक अनपढ़ युवक  शाइन बोर्ड बनाने वाले कंपनी में काम करता था . बोर्ड बनाने वाले कंपनी में लोगों के अपने प्रोफाइल और बिज़नस के बोर्ड के रिक्वायरमेंट्स आते थे. बोर्ड बन जाने के बाद वह युवक लोगों तक उनका बोर्ड पहुँचाया करता था और उनकी पत्ते पर बोर्ड लगाया करता था. यही उसकी नौकरी थी .
उस कंपनी में 3 आर्डर पेंडिंग थे जिनके काम चल रहा था
१ बोर्ड एक डॉक्टर का था जिसपर स्लोगन था ”पेट दर्द से निराश न हो”
२) बोर्ड एक होटल चलने वाले का था जिसका स्लोगन था “कृपया पुनः सेवा का मौका दें.”
३) बोर्ड एक श्मशान घाट का था जिसका स्लोगन था “मृतक के परिजन भीड़ न लगाएं “

बोर्ड बन जाने के बाद उस युवक को सभी बोर्ड इन पतों पर पहुंचाने थे . कंपनी द्वारा बताये गए पते पर बोर्ड लगाने के लिए वह सभी बोर्ड्स को अपनी युक्ति से रखकर रिक्शे पर बैठ गया . वह युवक अनपढ़ था अतः उसने अपने बुद्धि से ३ बोर्ड्स क्रमवार रख लिए .

लेकिन गलती से उसके बोर्ड बदल गए और तीनो पाटों पर इस क्रम से बोर्ड लगा दिया
१)       श्मशान घाट -> “कृपया पुनः सेवा का मौका दें.”
२)       डॉक्टर ->”मृतक के परिजन भीड़ न लगाएं”
३)       ढाबा ->”पेट दर्द से निराश न हो”

अपनी अशिक्षा के कारण उस युवक ने बहुत बड़ी गलती की . इसका complain कंपनियों की तरफ से आया और उसे नौकरी से निकल दिया गया.

विशिष्ट पोस्ट

क्या आप पर सत्संग का प्रभाव पड़ा?

🌹 *सत्संग का असर क्यो नही होता?* 🌹                    शिष्य गुरु के पास आकर बोला, गुरु जी हमेशा लोग प्रश्न करते है कि सत्संग का असर क्यो...