सर्टिफिकेट सियार का

सियारों से कुत्तों की दुश्मनी बहुत पुराणी है।  इससे सम्बंधित कई किस्से कहानियाँ हैं।  आईये ऐसे ही एक रोचक कहानी के बारे में जानते हैं। इस कहानी के मुख्य पात्र हैं। सियार सियारिन और कुत्ते।
सियारों को उनसे नगर में रहने का अधिकार छीन गया था तब से सियार जंगल में रहने लगे थे और कुत्ते गावं में।  जब भी साहस कर सियार गावं में आने की कोसिस करते कुत्ते उन्हें भों भों कर भगा देते।


एक दिन एक सियार को कोई पत्र मिला।  वह उस पत्र को मुहं में दबाये हुए घर पहुंचा।  घर पहुँच कर उसने बड़े प्यार से सियारिन को आवाज लगायी।
प्रिये सुनती हो ! प्रिये सुनती हो। ....

अरे भाग्यवान सुनती हो !

सियारिन ने कहा -->आयी जी बच्चों को खिला रही हूँ थोड़ा देर इन्तजार कर लो। कुछ भन भनाते हुए सियारन दरवाजे पर आ गयी. ये सब तो मेरे ही जिम्मे हैं न पैदा कर छोड़ दिए मुझ पर। मैं न देखूं तो इन्हे कौन देखेगा। आप तो बाहर घूमते रहते हो कभी मेरे बारे में भी सोचा है।  मेरा भी मन करता है कही घुमाने जाने का बाहर का खाने का।

सियार ने अपने मुँह में दबाये हुए कागज़ को जमीन पर रखते हुए उसे पैरों से दबाते हुए बोला। इसे पढ़ो पगली। अब पुरानी बात नहीं रही। अच्छे दिन आ गए हैं।
सियारिन चौंक कर बोली !
कैसे अच्छे दिन कौन से अच्छे दिन। सियार ने उसे समझाते हुए कहा ! पहले हमलोगों को सबजगह घूमने की आजादी नहीं थी. हमें वो आजादी मिल गयी है। ये आजादी का प्रमाण पत्र है जिसे अँग्रेजी मे certificate of liberty भी कहते हैं ।
यह सुनकर सियारिन बहुत खुश हुई सुबह जल्दी उठकर नाश्ता बनाया और पाथेय भी रख लिया। पति और बच्चों के साथ निकल पड़ी यात्रा का आनंद लेने।

सपत्नीक सियार अभी नगर के समीप पहुंचे नहीं थे की कुत्तों ने उनपर भों भों का बाक प्रहार करना शुरू कर दिया।
अब सियार का परिवार उलटे पाँव वापस जंगल की ओर जाने को मजबूर हो गया।
सियार की ऐसी दशा देख कर सियारिन बोली आप certificate क्यों नहीं दिखाते आप certificate क्यों नहीं दिखलाते ?
सियार पत्नी की बात की अनसुनी कर उलटे पाँव भागता गया। सियारन भी पति का अनुसरण करते हुए हाँफते हुए बार बार यही पूछती आप इन्हे सर्टिफिकेट क्यों नहीं दिखाते

थका सियार सियारन से बार बार यही समझाता।
भागो  भागो जान बचावो ये सब अनपढ़ हैं certificate की भाषा नहीँ समझेंगे ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ईमानदार लकड़हारा

भक्त की निश्छलता - Guileless Devotee

Guilty Mind is Always Suspicious - Chor ki Dadhi me Tinka