एक अंधी लड़की की कहानी

Story of a Blind Girl


एक अंधी लड़की थी जो खुद से नफरत करती थी सिर्फ इसलिए कि वह अंधी थी। वह अपने प्रेमी को छोड़कर, हर किसी से नफरत करती थी। वह उसके मदद के लिए हमेशा तैयार रहता था। उस लड़की ने कहा कि अगर वह केवल दुनिया देख सकती, तो वह अपने प्रेमी से शादी कर लेती।

एक दिन, कोई उसे एक जोड़ी आँखें दान किया अब वह अपने प्रेमी के साथ साथ सब कुछ देख सकती थी। उसके प्रेमी ने उससे पूछा, "अब तुम दुनिया को देख सकती हो , क्या अब तुम मुझसे शादी करोगी?"
 लड़की चौक गयी जब उसने देखा की उसका प्रेमी भी अँधा है और उसने शादी करने से इंकार कर दिया। उसका प्रेमी आँसू भरी आँखों से उससे दूर चला गया, और उसे एक चिट्ठी के माध्यम से सन्देश  भेजा।
"प्यारी बस मेरी आँखों का ख्याल रखना।"

यहाँ बताया गया है कि कैसे मनुष्य की स्थिति में बदलाव आने से उसके निर्णय में परिवर्तन आ जाता है और उसके विचार बदल जाते हैं। बहुत काम लोगों को याद रहता है की  पहले जीवन कैसा था, और जीवन की उस विषम परिस्थितियों में किन लोगों ने मेरा साथ दिया ?

जीवन एक उपहार है
आज एक निर्दयी वचन बोलने से पहले आप इस बारे में सोचें कि
-कोई ऐसा भी आदमी है जो बोल नहीं सकता है
इससे पहले कि आप अपने भोजन के स्वाद के बारे में शिकायत करें
-सोचें कुछ लोग ऐसे भी हैं जिनको कुछ खाने को नसीब नहीं

इससे पहले कि आप अपने पति या पत्नी के बारे में शिकायत करें
- उनके बार में सोचिये जो एक साथी के लिए भगवन से विनती कर रहे हैं

आज इससे पहले कि आप जीवन के बारे में शिकायत करें
- उनलोगों के बारे में सोचे जो अल्पायु में ही मर गए

इससे पहले कि आप अपने बच्चों के बारे में शिकायत करें।
- उनलोगों के बारे में सोचें जो बच्चे की चाहत रखते है लेकिन निःसंतान हैं

इससे पहले कि आप अपने गंदे घर के बारे में बहस करें, जिसे कोई साफ नहीं करता या झाडू नहीं लगता
-उनलोगों के बारे में सोचें जो लोग सड़को गलियों में रहते है, या फुटपाथों पर सोते हैं

अपने घर से ऑफिस तक की ड्राइविंग डिस्टेंस से दुखी होने से पहले सोचे
-उनलोगों के बारे में जो सामान दुरी पैदल चल कर तय करते हैं

और जब आप थक गए हों और अपनी नौकरी में के बारे में शिकायत कर रहे हों
- तो विकलांग और बेरोजगार व्यक्तियों के बारे में सोचे जो लोग एक नौकरी के तलाश में दर दर भटकते हैं।

दूसरों की निंदा के लिए अपनी अंगुली उठाने से पहले ये जरूर सोचें
-आप भी बुराई से बंचित नहीं है और आप भी पाप कर्म करते है

 जब निराशाजनक विचार आपको दूसरों से निचा दिखने लगे तो
- अपने चेहरे पर एक मुश्कान लाएं कि भगवान ने इतना अमूल्य जीवन दिया है और आप अभी तक जीवित हैं


कम्मेंट बॉक्स में इस कहानी का मोरल सुझाएँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ईमानदार लकड़हारा

भक्त की निश्छलता - Guileless Devotee

Guilty Mind is Always Suspicious - Chor ki Dadhi me Tinka