Tin Mitra Kachhuwa, Hiran aur Kauwa

एक जंगल मे तीन जानवर मित्रता से रहते थे। तीनो मित्र एक दुसरे के काम आते और सुख दुख मे एक दुसरे की मदद करते। ये तीनो मित्र कछुआ , हिरण और कौआ था । ओ तीनो एक दुसरे को उनके दुष्मनो की सुचना देकर सतर्क कर देते। एक दीन कछुआ कुछ लापरवाही के कारण शिकारी के जाल मे फंस गया । कछुआ के बाक़ी मित्रो ने उसे शिकारी के जाल से मुक्त कर ने के लिए एक योजना बनाई । कौआ हिरण से कहा कि तुम शिकारी के मार्ग मे आगे जाकर मृत जानवर की तरह लेट जाओ। शिकारी मार्ग मे दुसरा शिकार देखकर संभव है कछुआ को जमीन पर रखकर तुमको लेने तुम्हारे तरफ जाए। मेरा एक मित्र चुहा वही पेड़ के नीचे सौ बील बनाकर रहता है। मै उसी पेङ पर बैठकर शिकारी की गतिविधि से तुम्हे अवगत कर दुगा और तुम अपनेपास आए शिकारी से सावधान होकर भाग निकलना ।उधर जब शिकारी तुमको लेने आ रहा होगा।मेरा मित्र चुहा कछुआ के बंधन को काट देगा और ओ पास के तालाब मे बिना बिलम्ब किए चला जाएगा।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ईमानदार लकड़हारा

भक्त की निश्छलता - Guileless Devotee

Guilty Mind is Always Suspicious - Chor ki Dadhi me Tinka