जादुई खिड़की - The Magic Window


एक बार की बात है एक छोटा लड़का था। एक बार बीमारी से वह बहुत कमजोर हो गया। वह चलने फिरने में असमर्थ हो गया उसे सारा दिन बिस्तर पर आराम कर बिताना पड़ता था। इसके कारण दूसरे बच्चे उसके पास नहीं आते थे अतः वह बहुत  अकेला महसूस करता था और उदास भी रहता था।
वह खिड़की से बाहर खेलते हुए अपने मित्रों को देखने के सिवा कुछ नहीं कर  सकता था। समय गुजरता गया और उसके एकाकीपन का अहसास बढ़ता गया। एक दिन वह खिड़की में एक अजीब आकार देखा। एक पेंगुइन सैंडविच खा रही थी। पेंगुइन खुली खिड़की से अंदर आयी और लड़के को गुड आफ्टरनून बोल कर फिर बहार चली गयी।

बेशक, लड़का बहुत हैरान था। वह अभी भी जानने की कोशिश कर रहा था कि क्या हुआ है।
जब उसने खिड़की के बाहर लंगोट में एक बंदर को देखा, जो एक गुब्बारा उड़ाने में व्यस्त था। सबसे पहले लड़का खुद से पूछा कि क्या संभव हो सकता है, लेकिन कुछ समय के बाद, अधिक से अधिक पागल दिखने वाले पात्र के रूप में एक चरित्र खिड़की के बाहर दिखाई दिया, वह फुट फुट कर हँस पड़ा और उसको हंसी रोकना मुश्किल हो रहा था।
एक सूअर को डफ खेलता देख कोई भी अपनी हंसी को रोक पाने में असमर्थ है। ठीक उसी तरह यदि ट्रैम्पोलिन पर एक हाथी कूद रहा हो या कुत्ता चश्मा पहन के राजनीती की बात कर रहा हो कोई अपनी हंसी नहीं रोक सकता।  छोटा लड़का इस बारे में किसी को भी नहीं बताया, क्योंकि किसी को भी उसके बात पर विश्वास नहीं होता। जबकि वो अद्भुत चरित्र अपने अभिनय से उस लड़के के  ह्रदय और शरीर दोनों रोमांचित कर दिए थे इस घटना को उसे  किसी से बताने की हिम्मत नहीं हो रही थी। लंबे समय बाद उसका शरीर और स्वस्थ में सुधार हुआ जिससे वह फिर से स्कूल जाने में समर्थ हो सका।

वहां उसे अपने मित्रों से बातचीत करने का अवसर मिला, वह उन्हें अपने द्वारा देखी गयी अद्भुत  चीज़ों की कहानी सुनाता था।  वह जब अपने सबसे अच्छा दोस्त से बात कर रहा था तभी वह अपने दोस्तों के स्कूल बैग से कुछ चिपके हुए देखा। लड़का अपने दोस्त से पूछा कि यह क्या है , और वह इतना आग्रहपूर्ण तरीके से पूछा कि आखिर उसके दोस्त को बैग में क्या था दिखाना पड़ा।

वहाँ, उनके बैग के अंदर, सभी फैंसी पोशाक सूट थे।  जिन्हें पहन कर अलग अलग रूप धर छोटे लड़के को खुश करने की कोशिश में उसके सबसे अच्छे दोस्त उपयोग किया करते  थे।

 और उस दिन से, वह छोटा लड़का यह प्रयास किया कि कोई भी दु: खी और अकेला महसूस नहीं करे !

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ईमानदार लकड़हारा

भक्त की निश्छलता - Guileless Devotee

Guilty Mind is Always Suspicious - Chor ki Dadhi me Tinka