सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

प्रदर्शित

सावन महीने के प्रसिद्धि की कहानी - Importance of the month of sawan

वसंत अगर ऋतुओं का राजा है तो वर्षा को ऋतुओं की रानी कहा गया है. और इस बरसात में भी सावन का महीना विशेष मनभावन होता है. सावन के महीने को कई बातों से महत्वपूर्ण माना जाता है . सावन के महीने की प्रसिद्धि की कहानी कुछ इसप्रकार है :->
पौराणिक संदर्भ एक बार सनत कुमारों ने भगवन शिव से सावन के महीने की प्रसिद्धि का कारण पूछा. भगवन शिव ने संताकुमारों से दक्ष प्रजापति सुता सती की कहानी सुनाई. भगवन शिव ने कहा -> दक्ष यज्ञ में मेरा अपमान न सहन कर सकने के कारण सती ने योगाग्नि से शरीर जला लिया था. सती को प्रत्येक जन्म में मेरा ही सानिद्ध्य पाने का वरदान है . अतः सती ने अगले जन्म में पर्वत राज हिमालय के यहाँ पार्वती के रूप में जन्म लेकर कठोर तप किया और मुझे पुनः पति के रूप में प्राप्त किया . इससे इस महीने का विशेष महत्व है . ऐसा भी कहा जाता है की समुद्र मंथन के बाद कालकूट विष भी इसी महीने में निकला था . भगवान शिव ने जन कल्याण के लिए इसी महीने में उस हलाहल का पान किया था . मृकंदु ऋषि के पुत्र मार्कंडेय जी को आल्पयु योग था . भगवान शिव की कठोर तपस्या से उन्हें अमरत्व प्राप्त हुआ . मार्कंडेय जी जे साव…

हाल ही की पोस्ट

वरदराज की कहानी - story of varadraj

भिखारी के कल्पना की कहानी

जब घोड़ों के खिलाफ गधों ने जंग जीती

सर्टिफिकेट सियार का

श्रद्धालु और ईर्ष्यालु की कहानी

लंगर की कहानी Reliance जियो के सन्दर्भ में

सेठ का अपने बच्चे को सीख

गोनू झा और भाना झा, भैंस का बँटवारा ।- bhains ka bantwaara

खटमल और चीलर की कहानी

मातृभाषा के प्रति बढती उपेक्षा की भावना